Diabetes Tips

Insulin Plant : पत्ते चबाने से कंट्रोल होगा शुगर, जानिए क्या है इस जादुई पौधे का रहस्य

मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जिसमें शरीर का रक्त शर्करा का स्तर बहुत अधिक हो जाता है और इंसुलिन एक हार्मोन है जो ऊर्जा के लिए ग्लूकोज को आपकी कोशिकाओं में ले जाने में मदद करता है और इसलिए स्थिति को प्रबंधित करने में मदद करता है।

Insulin Plant : डायबिटीज एक आम बीमारी है जो देश के लगभग हर दूसरे घर में पाई जाती है। यह रोग शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी काफी कम कर देता है, जिससे व्यक्ति कई अन्य बीमारियों की चपेट में आ जाता है। लेकिन आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि ऐसे में आप इंसुलिन प्लांट का इस्तेमाल कर सकते हैं।

सरल शब्दों में, मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जिसमें शरीर का रक्त शर्करा का स्तर बहुत अधिक हो जाता है और इंसुलिन एक हार्मोन है जो ऊर्जा के लिए ग्लूकोज को आपकी कोशिकाओं में ले जाने में मदद करता है और इसलिए स्थिति को प्रबंधित करने में मदद करता है। इंसुलिन प्लांट औषधीय पौधों में से एक है जो मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करता है।

Diabetes and Insulin

तो अगर आप या आपका कोई परिचित मधुमेह से पीड़ित है, तो आपको यह समझने के लिए यह लेख पढ़ना चाहिए कि जादुई पौधा इंसुलिन मधुमेह के इलाज में कैसे मदद करता है। इस बारे में डायटीशियन सिमरन सैनी जी बता रही हैं।

इंसुलिन का पौधा  (What is Insulin Plant?)

Florona Rare Insulin Plant Rhizome Costus igneus Medicinal Treatment Precious Ornamental Indoor Plant 5 Rhizomes

मधुमेह के इलाज के लिए इंसुलिन संयंत्र मातृ प्रकृति द्वारा एक वरदान है जो एक खतरनाक स्वास्थ्य स्थिति है, तो यह गुर्दे, आंखों, जठरांत्र संबंधी मार्ग और हृदय जैसे शरीर के विभिन्न अंगों पर गंभीर प्रभाव डाल सकता है।

इंसुलिन प्लांट कैसे काम करता है? How to Control Diabetes From Insulin Plant?

इंसुलिन का पौधा जिसका वैज्ञानिक नाम कैक्टस इग्नस है, आयुर्वेद में बहुत महत्व रखता है और इस पौधे की पत्तियों को चबाने से आपका शुगर लेवल काफी हद तक नियंत्रित हो सकता है, हालांकि इसका स्वाद मुंह में खटास छोड़ सकता है।

पत्तों के सही प्रयोग से ब्लड शुगर को नियंत्रित किया जा सकता है। यह जानना दिलचस्प है कि इस पौधे में इंसुलिन नहीं होता है, न ही यह शरीर में इंसुलिन बनाता है, लेकिन इस पौधे में मौजूद प्राकृतिक रसायन चीनी को ग्लाइकोजन में बदल देते हैं, जो चयापचय प्रक्रिया को बढ़ावा देता है।

विभिन्न शोधों के अनुसार, कोस्टस इग्नस या चमत्कारी इंसुलिन के पौधे की पत्तियां एक ऐसे रसायन से भरपूर होती हैं जो मधुमेह के खतरे को कम करता है। इंसुलिन की पत्तियों में यह रक्त में बढ़े हुए शुगर के स्तर को कम करता है।

इतना ही नहीं, इस अद्भुत पौधे की पत्तियां मूल्यवान पोषक तत्वों जैसे प्रोटीन, टेरपेनोइड्स, फ्लेवोनोइड्स, एंटीऑक्सिडेंट्स, एस्कॉर्बिक एसिड, आयरन, बी कैरोटीन, कोर्सोलिक एसिड आदि से भरपूर होती हैं।

इंसुलिन प्लांट के फायदे (Insulin Plant Benefits)

मधुमेह

इस पौधे की हरी पत्तियाँ कोर्सोलिक एसिड से भरपूर होती हैं। यह रसायन, जब अंतर्ग्रहण किया जाता है, तो अग्न्याशय से इंसुलिन के स्राव को बढ़ाकर जादू की तरह काम करता है। यह रक्त प्रवाह में ग्लूकोज के उच्च स्तर को ट्रिगर करता है और स्थिति को ठीक करता है।

इनुलिन के पौधे का उपयोग खांसी, सर्दी, त्वचा संक्रमण, आंखों में संक्रमण, फेफड़ों के रोग, अस्थमा, दस्त और कब्ज जैसी बीमारियों के लिए भी किया जाता है।

इंसुलिन प्लांट का सेवन कैसे किया जाता है? How to Eat Insulin Plant

Insulin Plant For Blood Sugar

अब तक आप मधुमेह के इलाज के लिए इस पौधे के जादुई प्रभावों से अच्छी तरह वाकिफ होंगे। शुगर लेवल में प्रभावी परिणाम देखने के लिए डॉक्टर इस पौधे की एक पत्ती को एक महीने तक रोजाना चबाने की सलाह देते हैं।

इस पौधे के गुणों का लाभ उठाने का दूसरा तरीका है पत्तियों को सुखाना। आप इस पौधे से पत्ते लेकर छाया में सुखा सकते हैं। इसके बाद सूखे पत्तों को पीस लें। इसलिए बने चूर्ण का सेवन रोजाना करना चाहिए। आप इस चूर्ण का 1 चम्मच रोजाना सेवन कर सकते हैं।

सावधानी | Insulin Plant Side Effects

निर्धारित से अधिक न चबाएं क्योंकि इससे अन्य स्वास्थ्य जोखिम हो सकते हैं।

मैं इंसुलिन प्लांट कहां से खरीद सकता हूं? How to Get Insulin Plant

आप साल के किसी भी समय अपने घर पर इंसुलिन का पौधा लगा सकते हैं। यह एक झाड़ीदार पौधा होता है जिसकी ऊंचाई ढाई से तीन फीट के बीच होती है।

अगर आप घर के गमले में खाद और मिट्टी सही अनुपात में डालते हैं और पानी डालते रहते हैं तो आपको जल्द ही परिणाम देखने को मिलेंगे।

मधुमेह

साथ ही ये पौधे आपको नर्सरी में भी मिल जाएंगे। आपको कई स्थानीय प्लांट वेंडर आसानी से मिल जाएंगे जो न केवल पौधे बेचते हैं बल्कि इस पौधे के बीज भी उपलब्ध कराते हैं।

आप भी इसकी मदद से अपने मधुमेह को नियंत्रित कर सकते हैं। लेकिन इसका इस्तेमाल करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। आशा है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।

इस लेख को शेयर और लाइक जरूर करें और साथ ही कमेंट भी करें। आहार और स्वास्थ्य से जुड़े ऐसे और लेख पढ़ने के लिए diabetesglucometer.com से जुड़े रहें।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button