Prevention

अगर आज इन आदतों को छोड़ दिया जाए तो बच्चो को नहीं होगी डायबिटीज, रास्ता है बेहद आसान

एक बार मधुमेह हो जाने पर यह जीवन भर के लिए परेशानी का सबब बन जाता है और व्यक्ति को अपने भोजन पर बहुत नियंत्रण करना पड़ता है। आपने सुना होगा कि रोकथाम इलाज से बेहतर है। मधुमेह के मामले में भी यही सच है।

मधुमेह : यह एक ऐसा शब्द है जिसे सुनकर लोगों के कान खड़े हो जाते हैं। उम्र के साथ लोगों में भी डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है और अगर लाइफस्टाइल सही नहीं है तो यह बीमारी और तेजी से पकड़ लेती है।

कहा जाता है कि एक बार मधुमेह हो जाने पर यह जीवन भर के लिए परेशानी का सबब बन जाता है और व्यक्ति को अपने भोजन पर बहुत नियंत्रण करना पड़ता है। आपने सुना होगा कि रोकथाम इलाज से बेहतर है। मधुमेह के मामले में भी यही सच है।

यदि बच्चे कम उम्र से ही अच्छी जीवनशैली अपनाते हैं, तो उन्हें भविष्य में टाइप 2 मधुमेह जैसी जीवन शैली की बीमारियों का खतरा कम होता है।

जीवनशैली में कुछ साधारण बदलाव करके बच्चों में टाइप 2 मधुमेह को विकसित होने से रोका जा सकता है। यदि आप मोटापे, उच्च कोलेस्ट्रॉल के उच्च जोखिम में हैं या मधुमेह का पारिवारिक इतिहास है, तो रोकथाम आपके लिए और भी महत्वपूर्ण हो जाती है।

मधुमेह न केवल वयस्कों में बल्कि बच्चों में भी आम हो गया है। माता-पिता अपने बच्चे को इस बीमारी से बचाने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं और सबसे पहले आपको स्वस्थ आदतों को अपनाना होगा। बच्चों से पहले आपको स्वस्थ आदतें अपनानी होंगी क्योंकि बच्चे आपको देखकर सीखते हैं।

शारीरिक गतिविधि

आप बच्चों के साथ टहलने जा सकते हैं, घर पर गेंद खेल सकते हैं और वह खेल खेल सकते हैं जो उन्हें पसंद है। कम बैठे गेम खेलें। बच्चों को रोजाना कम से कम 60 मिनट की फिजिकल एक्टिविटी जरूर करनी चाहिए।

सक्रिय रहे

आजकल बच्चे ज्यादातर समय टीवी, लैपटॉप या फोन की स्क्रीन से चिपके रहते हैं। कोरोना के चलते बच्चों की फिजिकल एक्टिविटी और भी कम हो गई है।

वजन पर काबू

यदि आपका बच्चा अधिक वजन का है, तो वजन कम करने से मधुमेह के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है। अपने डॉक्टर को बताएं और जानें कि स्वस्थ रहने के लिए वजन कम करना कितना जरूरी है। इससे न सिर्फ आप फिट रहते हैं बल्कि आप कई बीमारियों से भी बच सकते हैं।

चीनी कम खिलाएं

बच्चों को मीठी चीजें बहुत पसंद होती हैं लेकिन आपको उन पर नजर रखनी होगी। इस बात का ध्यान रखें कि बच्चों को ज्यादा मीठी चीजें नहीं खानी चाहिए।

उन्हें कैंडी, जूस और अन्य प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ खिलाने से बचें। इसके बजाय बच्चों को फल, साबुत अनाज और सूखे मेवे आदि खाना सिखाएं।

रात का खाना समय पर लें

दिन में तीन बार सही समय पर खाना खाने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। भोजन करते समय टीवी बंद रखें और बच्चे के सामने कुछ भी विचलित करने वाला नहीं होना चाहिए।

खेलकुद

बच्चों को ज्यादा टीवी और फोन का इस्तेमाल न करने दें क्योंकि इससे आंखों और नींद से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। बच्चो को खेलकुद करने दे, उन्हे खुद खेलकुद के लिये प्रेरित करे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button