Prevention

नींद की कमी से ज्यादा घातक देर रात खाने की आदत; बना सकती है आपको इन रोगों का शिकार

शोधकर्ताओं के अनुसार देर रात तक खाने-पीने की आदत नींद की कमी से ज्यादा घातक है। यह रक्त में मौजूद ग्लूकोज का उपयोग करने के लिए ऊतकों की क्षमता को कम करता है।

क्या आप देर रात तक टीवी देखने या सोशल मीडिया पर दोस्तों के साथ गपशप करने के आदी हैं? इस दौरान भूख लगने पर क्या आप अक्सर फास्ट फूड या स्नैक्स खाते हैं? अगर हां, तो संभल जाइए। यह सलाह अमेरिका के ब्रिघम और महिला अस्पताल द्वारा हाल ही में किए गए एक अध्ययन में दी गई है।

शोधकर्ताओं के अनुसार देर रात तक खाने-पीने की आदत नींद की कमी से ज्यादा घातक है। यह रक्त में मौजूद ग्लूकोज का उपयोग करने के लिए ऊतकों की क्षमता को कम करता है।

नतीजतन, एक व्यक्ति ‘हाइपरग्लेसेमिया’ का शिकार हो जाता है, जिसमें रक्त में ग्लूकोज का स्तर सामान्य से काफी अधिक रहता है। यह स्थिति आगे चलकर टाइप-2 डायबिटीज और हृदय रोगों का रूप भी ले सकती है।

प्रमुख शोधकर्ता फ्रैंक एजेएल शियरर के अनुसार, देर रात का भोजन या नाश्ता करने से शरीर की ‘केंद्रीय’ और ‘परिधीय’ जैविक घड़ी (सर्कैडियन घड़ी) के बीच समन्वय बाधित होता है।

ये दोनों घड़ियां चौबीस घंटे के अंतराल में किसी भी व्यक्ति में होने वाले शारीरिक, मानसिक और व्यावहारिक परिवर्तनों को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

फ्रैंक ने दावा किया कि ‘केंद्रीय’ और ‘परिधीय’ जैविक घड़ी के बीच संतुलन में गड़बड़ी भी बीटा-कोशिकाओं के कार्य को प्रभावित करती है।

अग्न्याशय में मौजूद ये कोशिकाएं इंसुलिन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार होती हैं। यदि वे सामान्य रूप से काम नहीं करते हैं, तो शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम होने और रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि की शिकायत हो सकती है। अध्ययन के नतीजे साइंस एडवांसेज जर्नल के हालिया अंक में प्रकाशित किए गए हैं।

खाने के लिए सुबह का इंतजार करना बेहतर है

अध्ययन के दौरान, शोधकर्ताओं ने 19 स्वस्थ प्रतिभागियों को 14 दिनों के लिए नियंत्रित दिनचर्या पर रखा। उन्हें कम रोशनी वाले वातावरण में लगातार 32 घंटे तक जागते रहने को कहा गया।

सभी प्रतिभागियों द्वारा हर घंटे समान शारीरिक गतिविधि की गई। उन्हें वही नाश्ता और भोजन भी दिया गया। इसके बाद प्रतिभागियों को रात की पाली में काम करने के लिए कहा गया। आधे प्रतिभागियों को निर्देश दिया गया कि वे शिफ्ट के दौरान जो चाहें खाएं।

वहीं, बाकियों को सुबह के खाने का इंतजार करने को कहा गया। इस दौरान रात भर जागने के बावजूद सुबह जल्दी कुछ खाने वाले प्रतिभागियों का ब्लड ग्लूकोज लेवल बेहतर रहा।

वहीं रात में खाना खाने वालों का ब्लड शुगर बहुत ज्यादा पाया गया। इससे साफ है कि इस दौरान रात में जागने से ज्यादा खाना-पीना ज्यादा खतरनाक होता है।

नाइट शिफ्ट में रहें सावधान

फ्रैंक और उनके सहयोगियों ने रात की पाली में काम करने वालों को टाइप 2 मधुमेह के जोखिम के प्रति अधिक सतर्क रहने की सलाह दी।

उन्होंने जर्मनी में कोलोन विश्वविद्यालय के शोध का हवाला दिया, जिसमें रात की पाली या अलग-अलग पाली में काम करने वाले कर्मचारियों में रक्त शर्करा का स्तर काफी अधिक पाया गया। इसका मुख्य कारण ‘बॉडी क्लॉक’ के बिगड़ने के कारण मेटाबॉलिक गतिविधि का प्रभाव था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button