Risk factors

आज दूरी बनाओ : ब्रेन के लिए खतरनाक हो सकता है इन 5 चीजों का सेवन

हर दिन आप कुछ ऐसे पेय या भोजन का सेवन करते होंगे, जो दिमाग के स्वास्थ्य पर बुरी तरह से असर डालते हैं। आप जाने-अनजाने दिमाग के लिए समस्याएं पैदा कर रहे हैं। आज हम आपको 5 ऐसी चीजों के बारे में बताएंगे, जिनका सेवन दिमाग के लिए हानिकारक हो सकता है।

Worst Foods for Brain : दिमाग के लिए सबसे खराब खाना: जीवन को बेहतर बनाए रखने के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना जरूरी है। छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर आप मानसिक स्वास्थ्य को काफी हद तक सुधार सकते हैं।

हर दिन आप कुछ ऐसे पेय या भोजन का सेवन करते होंगे, जो दिमाग के स्वास्थ्य पर बुरी तरह से असर डालते हैं। आप जाने-अनजाने दिमाग के लिए समस्याएं पैदा कर रहे हैं। आज हम आपको 5 ऐसी चीजों के बारे में बताएंगे, जिनका सेवन दिमाग के लिए हानिकारक हो सकता है।

Sugary Drinks से दूर रहें

अक्सर लोग एनर्जी ड्रिंक, स्पोर्ट्स ड्रिंक, सोडा और जूस पीना पसंद करते हैं। मेडिकल न्यूज टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश शर्करा वाले पेय में 55% फ्रुक्टोज और 45 प्रतिशत ग्लूकोज होता है।

इससे टाइप 2 डायबिटीज और हृदय रोग के अलावा दिमाग पर काफी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ऐसे लोगों को अल्जाइमर और डिमेंशिया की समस्या हो सकती है।

Refined Carbohydrates and High Trans Fats

परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट, जिनमें चीनी और अत्यधिक संसाधित अनाज होते हैं, मस्तिष्क के लिए अच्छे नहीं माने जाते हैं। इनमें सफेद आटा भी शामिल है। इससे ब्रेन फंक्शन में दिक्कत होती है।

अधिक वसा और चीनी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आपकी याददाश्त कमजोर हो सकती है। इसके अलावा अधिक ट्रांस फैट वाले खाद्य पदार्थ जैसे केक, स्नैक्स, कुकीज आदि अल्जाइमर का कारण बन सकते हैं।

Foods High in Salt and Sugar

अधिक नमक, चीनी और उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने से मस्तिष्क को बहुत नुकसान होता है। ऐसा भोजन मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाता है और कई समस्याओं का कारण बनता है। ऐसी समस्याओं से बचने के लिए आपको चिप्स, मिठाई, नूडल्स, माइक्रोवेव पॉपकॉर्न, सॉसेज और रेडीमेड भोजन से बचना चाहिए।

Artificial Sweeteners

शुगर फ्री के नाम पर कई उत्पादों में आर्टिफिशियल स्वीटनर का इस्तेमाल किया जाता है। इनमें कई ऐसे रसायन होते हैं जो मस्तिष्क के ट्रांसमीटर उत्पादन को प्रभावित करते हैं। इससे ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस का खतरा भी काफी बढ़ जाता है। इसलिए कृत्रिम मिठास वाले भोजन के सेवन से बचना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button