Life Style

Pregnancy and diabetes : प्रेग्नेंसी में कितना खतरनाक है डायबिटीज, किन चीजों से करें परहेज

डायबिटीज का गर्भ में पल रहे बच्चे पर कोई असर न हो, इस दौरान महिलाओं को सतर्क रहने के साथ-साथ नियमित जांच भी करानी चाहिए और अपने आहार में कुछ खास चीजों को जरूर शामिल करना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान मधुमेह के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान और सतर्कता यानि गर्भकालीन मधुमेह मेलिटस आपके लिए किसी भी बड़ी परेशानी से बचने का एक प्रभावी कदम है।

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। जिसमें शरीर का शुगर लेवल भी बढ़ सकता है यानि वह जेस्टेशनल डायबिटीज की शिकार हो सकती है।

डायबिटीज का गर्भ में पल रहे बच्चे पर कोई असर न हो, इस दौरान महिलाओं को सतर्क रहने के साथ-साथ नियमित जांच भी करानी चाहिए और अपने आहार में कुछ खास चीजों को जरूर शामिल करना चाहिए।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार जिन महिलाओं को पहले कभी मधुमेह नहीं हुआ है, वे भी गर्भावस्था के दौरान गर्भकालीन मधुमेह की शिकार हो सकती हैं।

इस रोग से संबंधित शोध के अनुसार जिन महिलाओं का वजन अधिक होता है, जिन्हें पहले गर्भावधि मधुमेह हो चुका हो या जिनके परिवार को पहले से ही मधुमेह हो, उनमें मधुमेह का शिकार होने की संभावना अधिक होती है।

डॉक्टरों के मुताबिक अगर समय रहते इसका सही इलाज नहीं किया गया तो यह गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है। दरअसल इससे बच्चे का शुगर लेवल भी बढ़ जाता है और समय से पहले उसका वजन बढ़ जाने से समय से पहले डिलीवरी होने की संभावना ज्यादा होती है।

डॉक्टरों का कहना है कि कुछ सावधानियां बरतकर इससे बचा जा सकता है। गर्भवती महिलाओं को हमेशा अपना शुगर लेवल चेक करते रहना चाहिए और अपने खान-पान का खास ध्यान रखना चाहिए। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए गर्भवती महिलाओं को इन चीजों का सेवन करना चाहिए।

सामान्य लक्षण नजरअंदाज ना करे 

• मोटापा

• मधुमेह का पारिवारिक इतिहास

• यदि आपको पिछली गर्भावस्था के दौरान जीडीएम हुआ हो

• आयु 35 वर्ष से अधिक है

• अनियमित चक्र पीसीओएस का इतिहास

इसके अलावा सभी महिलाओं को गर्भधारण करने से पहले अपना वजन नियमित रखना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ने से कई समस्याएं हो सकती हैं।

गर्भावधि मधुमेह के लक्षण

गर्भावधि मधुमेह वाली महिलाएं आमतौर पर निम्नलिखित लक्षण दिखाती हैं।

• ग्लूकोज स्तर में वृद्धि’

• बढ़ी हुई प्यास

• थकान

• जी मिचलाना या जी मिचलाना

• पेशाब में वृद्धि

• खमीर संक्रमण या कान का संक्रमण

• मूत्राशय का संक्रमण

• धुंधली दृष्टि

माँ और बच्चे पर GDM का प्रभाव

एक बड़ा बच्चा प्रसव में कठिनाई और सिजेरियन सेक्शन की आवश्यकता पैदा कर सकता है। इसके अलावा हाई ब्लड प्रेशर, योनि में संक्रमण और समय से पहले प्रसव का खतरा भी आम है। प्रसव के दौरान रक्त शर्करा में अचानक गिरावट भी बच्चे के लिए जानलेवा होती है।

सेवन करे 

फल

मधुमेह के रोगी के लिए जामुन बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं को आंवला, नींबू, संतरा, टमाटर, खरबूजा, तरबूज, नाशपाती, अमरूद, स्ट्रॉबेरी, अंजीर जैसे फल भी खाने चाहिए। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार रोजाना 100 से 150 ग्राम फल खाने चाहिए।

हरी सब्जियां

हरी सब्जियां ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने में भी मददगार होती हैं, इसलिए अपने दैनिक आहार में मेथी, पालक, करेला, बथुआ, सरसों का साग, सीताफल, खीरा, लफ्फा, टिंडा, शिमला मिर्च, भिंडी, बीन्स, शलजम, खीरा, ग्वार शामिल करें। फली, सोआ, गाजर आदि अवश्य शामिल करें। भोजन में लहसुन का भी प्रयोग अवश्य करें, इससे ग्लूकोज का स्तर कम होता है।

फाइबर और ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ

गर्भावस्था के दौरान गर्भावधि मधुमेह से पीड़ित महिलाओं को फाइबर और ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर आहार का सेवन करना चाहिए।

भूरे और बिना पॉलिश किए चावल, छिलके वाली दालें, चोकर का आटा, सोयाबीन, साबुत चना, राजमा, लोबिया, अंकुरित अनाज आदि को आहार में शामिल करें। इसके अलावा ब्राउन ब्रेड, ओट्स, दलिया आदि खाएं। हरी सब्जियां और कच्चा सलाद खूब खाएं।

तेल और घी-तेल का सीमित मात्रा में सेवन

जानकारों के मुताबिक तेल और घी का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए। कुल मिलाकर एक दिन में 3-4 चम्मच से ज्यादा तेल/घी का सेवन न करें। आप खाना पकाने के लिए अलसी, सोयाबीन, सरसों, सूरजमुखी के तेल का उपयोग कर सकते हैं।

कम वसा वाला दूध

दूध, दही, पनीर खाएं, लेकिन कम वसा वाला। बेहतर होगा कि आप डबल टोंड दूध पिएं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक अगर आप चाय पीने के शौकीन हैं तो आप दिन में दो या तीन कप जय पी सकते हैं, लेकिन बिना चीनी के। छाछ पीना भी आपके लिए फायदेमंद रहेगा।

आहार पर नियंत्रण जरुरी

अपने आहार का आकलन करने के लिए आहार विशेषज्ञ को देखना महत्वपूर्ण है। गर्भावस्था के दौरान आपकी पोषण संबंधी जरूरतें बढ़ जाती हैं और आपके बच्चे को संतुलित पोषण की जरूरत होती है।

अपने भोजन को तीन छोटे भोजन और दो या तीन पौष्टिक स्नैक्स के बीच विभाजित करें, एक बार में बहुत ज्यादा खाने से आपका ब्लड शुगर बहुत ज्यादा बढ़ सकता है। यह बहुत जरूरी है कि आप खाना न छोड़ें।

उचित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट खाएं और फाइबर का सेवन बढ़ाएं। उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ परिष्कृत खाद्य पदार्थों की तुलना में रक्त शर्करा में अधिक क्रमिक वृद्धि का कारण बनते हैं। फाइबर के अच्छे स्रोत बीन्स, दाल, सब्जियां, साबुत फल, जई, चोकर, साबुत अनाज और साबुत अनाज हैं।

नाश्ता मायने रखता है। उच्च फाइबर और प्रोटीन वाला नाश्ता आमतौर पर सबसे अच्छा होता है जैसे कि छोले के आटे की रोटी और सब्जी, शाकाहारी दलिया और छेना (घर का बना पनीर कम वसा वाला) विभाजित

अपने अधिक से अधिक कार्बोहाइड्रेट असंसाधित और अपरिष्कृत खाद्य पदार्थों से प्राप्त करें। उदाहरणों में सब्जियां और फल, फलियां और साबुत अनाज का आटा (चोकर के साथ गेहूं) आदि शामिल हैं।

  • एक उच्च फाइबर आहार कार्बोहाइड्रेट के पाचन को धीमा करके इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करता है।
  • 2-3 भाग फलों का सेवन करें। फलों के जूस या सिरप में डिब्बाबंद फल न खाएं।
  • मिठाई, आइसक्रीम और मिठास जैसे ठंडे पेय पदार्थों को सख्ती से सीमित करें
  • कुल वसा और संतृप्त वसा कम करें। आहार में वसा कम होनी चाहिए, विशेष रूप से संतृप्त वसा, जैसे डालडा आदि।

उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थों में फास्ट फूड बर्गर, पिज्जा, समोसा, पकोड़े, तले हुए स्नैक्स और कई अन्य सुविधाजनक खाद्य पदार्थ शामिल हैं।

संतृप्त वसा में उच्च खाद्य पदार्थ पशु वसा से आते हैं, जैसे मक्खन, पनीर, लाल मांस और आइसक्रीम। ट्रांस-फैटी-एसिड से भरपूर अन्य खाद्य पदार्थ, जैसे केक, रस्क, बिस्कुट, पंखे, मेथी- से भी बचना चाहिए।

रोजाना 6-8 बादाम और 2 अखरोट खाएं क्योंकि ये ओमेगा-3 फैटी एसिड के समृद्ध स्रोत हैं। ओमेगा -3 फैटी एसिड आमतौर पर इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करते हैं। जहां तक ​​हो सके अपने भोजन का समय निश्चित रखें और भोजन को कैलोरी में स्थिर रखें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button